ADVERTISEMENT

गर्मी की छुट्टियों में अगर सिक्किम जाने का प्लान बना रहे हैं तो आपके लिए एक खुशखबरी है

सांगलाफू चो को 'ग्रेट लेक' के नाम से भी जाना जाता है। इस झील को लेकर लोगों में एक श्रद्धा का भाव है। इसके पानी का अत्यधिक धार्मिक महत्व का माना जाता है। स्थानीय लोग अक्सर आशीर्वाद लेने और प्रार्थना करने के लिए आते हैं।

पहली बार सिक्किम के सांगलाफू झील को पर्यटकों के लिए खोल दिया गया है। / @emichellecromer

अगर आप घूमने-फिरने के शौकीन हैं तो सिक्किम से आपके लिए एक रोमांचक खबर है। गर्मी की छुट्टियों में अगर सिक्किम जाने का प्लान बना रहे हैं तो आपके लिए खुशखबरी है। पहली बार सिक्किम के सांगलाफू झील को पर्यटकों के लिए खोल दिया गया है। मंगन जिले में सांगलाफू झील आपके स्वागत के लिए तैयार है।

अधिकारियों का कहना है कि पर्यटकों के लिए दुर्गम ऊंचाई वाली यह झील आम जनता के लिए खुली है। इस क्षेत्र की अलौकिक सुंदरता का पता लगाने के लिए यह आपको एक नया अवसर देती है। संगलाफू चो (झील) 5080 मीटर (16,670 फीट) की ऊंचाई पर स्थित है। यह लाचुंग के पास युमेसमडोंग से लगभग 5 किमी दूर है, जिसे जीरो पॉइंट के नाम से भी जाना जाता है।

सांगलाफू चो को 'ग्रेट लेक' के नाम से भी जाना जाता है। इस झील को लेकर लोगों में एक श्रद्धा का भाव है। इसके पानी का अत्यधिक धार्मिक महत्व का माना जाता है। स्थानीय लोग अक्सर आशीर्वाद लेने और प्रार्थना करने के लिए आते हैं। बर्फ से ढकी चोटियों और प्राचीन जंगल से घिरी इस झील के पास आप गहन शांति का अनुभव कर सकते हैं।

झील का उद्घाटन समारोह शानदार था। झील के उद्घाटन के उपलक्ष्य में लाचुंग में समतेन चोलिंग मठ के भिक्षुओं द्वारा एक औपचारिक प्रार्थना आयोजित की गई थी। इस कार्यक्रम में होटल एसोसिएशन और कैब ड्राइवरों के प्रतिनिधियों के साथ लाचुंग दजोमसा के सम्मानित सदस्यों ने भाग लिया।

लेकिन इससे पहले कि आप अपनी यात्रा की योजना बनाएं आपको झील की पवित्रता और पर्यावरण संरक्षण की रक्षा के लिए कुछ महत्वपूर्ण बातों का पालन करने की आवश्यकता है। आगंतुकों से आग्रह किया जाता है कि वे टेट्रा पैक सहित किसी भी सिंगल-यूज वाली प्लास्टिक वस्तुओं को लाने से परहेज करें। झील के चारों ओर और क्षेत्र के भीतर थूकना सख्त मना है।

सिक्किम के उत्तर-पूर्व में बसा संगलाफू सिक्किम का एक विरासत स्थल है। यह न केवल एक प्राकृतिक आश्चर्य है बल्कि इसका बहुत बड़ा धार्मिक महत्व भी है। 5425 मीटर (17,800 फीट) की ऊंचाई पर स्थित गुरुडोंगमार झील लाचेन धारा के एक महत्वपूर्ण स्रोत के रूप में काम करती है, जो तीस्ता नदी में मिलती है।

ऐसे में जो लोग सांगलाफू झील की यात्रा की योजना बना रहे हैं, उनके लिए अनुभव निश्चित रूप से जादुई होने वाला है। संगलाफू झील की यात्रा अपने आप में एक साहसिक कार्य है, जिसमें सड़कें ऊबड़-खाबड़ इलाकों और हिमालय के लुभावने नजारों से होकर गुजरती हैं।

Comments

ADVERTISEMENT

 

 

ADVERTISEMENT

 

 

E Paper

 

Related