ADVERTISEMENT

ब्रिटिश सांसद प्रीत कौर गिल ने संसद में उठाया सिखों के अंतरराष्ट्रीय दमन का मुद्दा

प्राथमिक देखभाल और सार्वजनिक स्वास्थ्य मामलों की शैडो मिनिस्टर गिल ने सुरक्षा मंत्री टॉम तुगेंधट से इन मामलों से निपटने के लिए ब्रिटिश सरकार द्वारा उठाए गए कदमों के बारे में पूछा।

गिल ने दावा किया कि इस कारण कई ब्रिटिश सिख 'हिट लिस्ट' में आ गए हैं। / Image : X@PreetKGillMP

ब्रिटिश सिख सांसद प्रीत कौर गिल ने हाउस ऑफ कॉमन्स में एक सत्र के दौरान ब्रिटेन में सिख समुदाय के सदस्यों को निशाना बनाने वाले अंतरराष्ट्रीय दमन और भारत से जुड़े एजेंटों का मुद्दा उठाया है।

गिल ने दावा किया कि इस कारण कई ब्रिटिश सिख 'हिट लिस्ट' में आ गए हैं। प्राथमिक देखभाल और सार्वजनिक स्वास्थ्य मामलों की शैडो मिनिस्टर गिल ने सुरक्षा मंत्री टॉम तुगेंधट से इन मामलों से निपटने के लिए ब्रिटिश सरकार द्वारा उठाए गए कदमों के बारे में पूछा।



हाउस ऑफ कॉमन्स में इस मामले को लेकर गिल ने किसी का नाम तो नहीं लिया लेकिन 'ब्रिटिश सिख कार्यकर्ताओं' के सुरक्षा उपायों के बारे में सवाल करते हुए विदेशों में सिखों के खिलाफ कथित हत्या की साजिशों का हवाला दिया।  

हाल के महीनों में फाइव आइज देशों ने यूके में सिख कार्यकर्ताओं को निशाना बनाने वाले भारत से जुड़े एजेंटों की गतिविधियों पर चिंता जताई है। फाइव आइज एक खुफ़िया गठबंधन को रेखांकित करता है जिसमें ऑस्ट्रेलिया, कनाडा, न्यूजीलैंड, अमेरिका और ब्रिटेन शामिल हैं।

लेबर सांसद ने कहा कि सबसे अधिक परेशान करने वाली बात यह है कि कथित हत्याएं हुई हैं और हत्या की साजिशें नाकाम हो गई हैं। अमेरिका और कनाड के अधिकारियों ने वरिष्ठ स्तर पर अपनी संप्रभुता, कानून के शासन और उनके लोकतांत्रिक मूल्यों के लिए इस चुनौती को सार्वजनिक रूप से सामने लाने का बीड़ा उठाया है। 

गिल ने पूछा कि ब्रिटिश सिखों को इसी तरह के खतरों का सामना करने की रिपोर्टों को देखते हुए सरकार उनकी सुरक्षा के लिए क्या कदम उठा रही है? गिल वे सवाल किया कि क्या मंत्री महोदय सार्वजनिक रूप से अपने लोकतांत्रिक अधिकारों की रक्षा करने में वैसी ही ताकत दिखाएंगे जैसी हमारे साझेदार दिखाते हैं?

इस पर मंत्री तुगेंघट ने कहा कि उनका विभाग पूरे देश में व्यक्तिगत अधिकारों और स्वतंत्रता तथा सुरक्षा के लिए आशंकित खतरों का लगातार आकलन कर रहा है। मंत्री ने कहा कि मैं पूरी तरह से स्पष्ट कर देना चाहता हूं कि यदि किसी विदेशी शक्ति द्वारा किसी ब्रिटिश नागरिक को कोई खतरा है तो हम तत्काल कार्रवाई करेंगे। सिख समुदाय को यूनाइटेड किंगडम में हर दूसरे समुदाय की तरह सुरक्षित होना चाहिए। 

Comments

ADVERTISEMENT

 

 

ADVERTISEMENT

 

 

E Paper

 

Related