ADVERTISEMENT

OFBJP ने कहा- होती है परेशानी, मोदी के तीसरे कार्यकाल में NRI आयोग के लिए जोर देंगे

OFBJP अध्यक्ष ने कहा कि प्रस्तावित NRI आयोग मुख्य रूप से संपत्ति के विवादों और बैंकिंग से जुड़ी कई समस्याओं का समाधान करेगा। समस्याओं को सुलझाने के लिए एक केंद्रीय आयोग स्थानीय अधिकारियों को पत्र जारी कर सकता है।

ओवरसीज फ्रेंड्स ऑफ बीजेपी (OFBJP) के अध्यक्ष अदापा प्रसाद ने कहा कि जब NRI भारत जाते हैं तो उन्हें अक्सर स्थानीय अधिकारियों से परेशानी होती है। / Courtesy Photo

ओवरसीज फ्रेंड्स ऑफ बीजेपी (OFBJP) के अध्यक्ष अदापा प्रसाद ने 4 जून को भारत के लोकसभा चुनावों में बीजेपी के प्रदर्शन की तारीफ की। उन्होंने OFBJP की कई कामयाबियों और नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली पार्टी के लिए समर्थन जुटाने के लिए विदेशों में जारी काम की भी प्रशंसा की। प्रसाद ने इस जीत को ऐतिहासिक रूप से महत्वपूर्ण बताया। इसकी वजह बताते हुए प्रसाद का कहना है कि मोदी लगातार तीसरे कार्यकाल के लिए शपथ लेने वाले हैं। 1962 के बाद से ऐसा बहुत कम बार हुआ है।

प्रसाद ने न्यू इंडिया अबॉर्ड को दिए एक इंटरव्यू में कहा कि हम बहुत खुश हैं। बीजेपी सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी है और 240 सीटों पर जीत दर्ज की है। यह बहुत बड़ी बात है, क्योंकि आमतौर पर दो कार्यकाल के बाद पार्टी के खिलाफ लोगों का गुस्सा होता है। प्रसाद ने भारतीय प्रवासियों की चिंताओं के बारे में बात करते हुए गैर-निवासी भारतीयों (NRIs) को उनकी भारतीय संपत्ति के संबंध में आने वाली कठिनाइयों के बारे में बताया। उन्होंने इन चिंताओं को दूर करने के लिए एक आयोग बनाने का सुझाव दिया।

उन्होंने कहा कि जब NRI भारत जाते हैं तो उन्हें अक्सर स्थानीय अधिकारियों से परेशानी होती है। अधिकारी जानते हैं कि NRI ज्यादा दिन नहीं रुकेंगे, इसलिए काम को देर से करते हैं। इस समस्या के समाधान के लिए प्रसाद ने NRI आयोग बनाने का प्रस्ताव दिया। उन्होंने कहा कि हमने ये विचार वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण को बताया और उन्हें ये पसंद आया। हम इसके लिए जोर देंगे कि इसे हकीकत में लाया जाए।

प्रसाद ने कहा कि प्रस्तावित NRI आयोग मुख्य रूप से संपत्ति के विवादों और बैंकिंग से जुड़ी कई समस्याओं का समाधान करेगा। समस्याओं को सुलझाने के लिए एक केंद्रीय आयोग स्थानीय अधिकारियों को पत्र जारी कर सकता है जिससे सुनिश्चित हो सके कि NRI के विदेश जाने के बाद भी उनका काम दूर से हो सके। उन्होंने जोर दिया कि कम्युनिकेशन और समाधान में तेजी लाने के लिए NRI के पास एक केंद्रीय संपर्क बिंदु होना चाहिए।

संपत्ति संबंधी मुद्दों के अलावा प्रसाद ने अन्य चिंताओं पर भी रोशनी डाली। इनमें बैकों में हस्ताक्षर वेरिफिकेशन जैसी पुरानी प्रथाओं के लिए डिजिटल समाधान की आवश्यकता शामिल है। उन्होंने कहा कि डिजिटल युग में दशकों पुराने हस्ताक्षरों पर निर्भर रहना जरूरी नहीं है। एक NRI आयोग इन छोटे लेकिन महत्वपूर्ण मुद्दों का समाधान कर सकता है।

प्रसाद ने OFBJP के सदस्यों और स्वयंसेवकों के अथक प्रयासों की सराहना की जिन्होंने मोदी और बीजेपी के लिए समर्थन जुटाने के लिए संयुक्त राज्य अमेरिका भर में विभिन्न गतिविधियों और रैलियों का आयोजन किया। प्रसाद ने कहा कि हमने हर हफ्ते बिना थके काम किया, अपने परिवारों के साथ समय बिताने का त्याग करके यह सुनिश्चित किया कि हमारे कार्यक्रम सफल हों।

उन्होंने बताया कि 'मोदी का परिवार मार्च' 16 से ज्यादा शहरों में हुआ। इनमें अटलांटा, वाशिंगटन डी.सी., बे एरिया, ह्यूस्टन और बे एरिया शामिल हैं। यह सिर्फ एक उदाहरण है कि कैसे प्रसाद के नेतृत्व में OFBJP ने बड़े कार्यक्रमों का आयोजन और बीजेपी के लिए समर्थन जुटाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। इन प्रयासों से अमेरिका में भारतीय प्रवासियों के बीच बीजेपी की स्थिति और प्रभाव में काफी वृद्धि हुई है।

प्रसाद ने मोदी के तीसरे कार्यकाल के दौरान भारत की संभावनाओं की खूब तारीफ की। उन्होंने देश के भविष्य के बारे में आशावाद व्यक्त करते हुए चल रहे सुधारों और विदेश में भारत की प्रतिष्ठा को बढ़ाने के महत्व पर जोर दिया। उन्होंने मोदी की आर्थिक नीतियों की प्रशंसा करते हुए बताया कि कैसे भारत की अर्थव्यवस्था दुनिया की पांचवीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन गई है। आने वाले समय में यह दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बनने की उम्मीद है। प्रसाद ने मोदी के 2047 तक भारत को विश्व नेता बनाने के विजन को दोहराते हुए कहा कि मोदी जी का एजेंडा स्पष्ट है: '2047 तक भारत को विश्वगुरु बनाने के लिए 24/7 काम करना।'

Comments

ADVERTISEMENT

 

 

 

ADVERTISEMENT

 

 

E Paper

 

Related