ADVERTISEMENT

TiEcon 2024 : संवाद के स्वर...भारतीय होने का सभ्यतागत लाभ पाते हैं अनिवासी भारतीय

जब आप भारतीय डायस्पोरा के बारे में सोचते हैं तो आप शिक्षा उन्मुख, कानून का पालन करने वाले और शांतिपूर्ण लोगों को देख रहे होते हैं। उन्हें उपद्रवी के तौर पर नहीं देखा जाता। यह प्रवासी भारतीयों का कार्य या गुण नहीं है यह भारतीय होने का कार्य है।

कैलिफोर्निया में पिछले सप्ताह दो दिवसीय TiE सम्मेलन का समापन हुआ। / X@TiEcon

कैलिफोर्निया में पिछले सप्ताह दो दिवसीय TiE सम्मेलन का समापन हुआ। इस दौरान भारत के सर्वोच्च न्यायालय के वकील व पैनलिस्ट साई दीपक जे ने कहा कि भारतीय प्रवासी भारतीय होने के सभ्यतागत लाभ से लाभान्वित होते हैं। TiEcon 2024 एक्सपोनेंशियल इंडिया में भारत के सवा अरब से अधिक नागरिकों के डिजिटल सशक्तिकरण और अमेरिकी और भारतीय नवाचारों (इनोवेशंस) तथा सफलता के बीच तालमेल पर चर्चा की गई।

श्री दीपक ने कहा कि डायस्पोरा की सफलता इसकी सभ्यता में निहित है। जब आप भारतीय डायस्पोरा के बारे में सोचते हैं तो आप शिक्षा उन्मुख, कानून का पालन करने वाले और शांतिपूर्ण लोगों को देख रहे होते हैं। उन्हें उपद्रवी के तौर पर नहीं देखा जाता। यह प्रवासी भारतीयों का कार्य या गुण नहीं है यह भारतीय होने का कार्य है। यह मूल्य भारत और उसके प्रवासी भारतीयों की सफलता के विचार के केंद्र में है।

मोटवानी जड़ेजा फाउंडेशन की वेंचर कैपिटलिस्ट और परोपकारी आशा जड़ेजा ने कहा कि यह देखना प्रेरणादायक था कि एआई, क्वांटम कंप्यूटिंग, अंतरिक्ष अन्वेषण, साइबर तकनीक और रक्षा स्टार्टअप में भारत का नवाचार देश को 5 ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था बनने के लक्ष्य की ओर कैसे प्रेरित कर रहा है। भारत न केवल उभर रहा है, बल्कि नवाचार केंद्र के रूप में विकसित हो रहा है। 

पैनल में शामिल जेंडा फाइनेंशियल के सीईओ और संस्थापक वकार हसन ने कहा कि आईआईटी सहित शिक्षा में दीर्घकालिक निवेश के दम पर भारत चीन और संयुक्त राज्य अमेरिका दोनों से अधिक 2 लाख से ज्यादा कंप्यूटर विज्ञान स्नातक पैदा करता है। एक्सपोनेंशियल अपॉर्चुनिटीज इन ए ग्लोबल इंडिया संवाद में मॉडरेटर सकीना अर्सीवाला (सामुदायिक स्वास्थ्य, ट्विच की उपाध्यक्ष) ने भारत के पूर्व राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम की वात याद दिलाई- भारत की अद्वितीय संपत्ति... एक बड़ी शिक्षित आबादी है।

पैनल ने वैश्विक भारत के संदर्भ में प्रौद्योगिकी, कार्यबल, निवेश और उद्यमिता में असंख्य अवसरों पर चर्चा की। TiEcon संवाद में मधु शालिनी अय्यर, मैनेजिंग पार्टनर रॉकेटशिप.वीसी; कुशाग्र श्रीवास्तव, सीईओ और सह-संस्थापक, की; विनोद मुथुकृष्णन, मुख्य ग्राहक अधिकारी और यूएसआईएसपीएफ के स्टार्टअप कनेक्ट सह-अध्यक्ष, यूनिफोर और फ़िज के सीईओ राकेश माथुर शामिल थे। 
 

Comments

ADVERTISEMENT

 

 

ADVERTISEMENT

 

 

E Paper

 

Related