ADVERTISEMENT

सीईओ जुबिन ने कहा- वीएफएस ग्लोबल भारतीय सफलता की ऐसी कहानी है जो वैश्विक हो गई

न्यू इंडिया अब्रॉड के साथ एक साक्षात्कार में करकारिया ने सरकारों के साथ मजबूत संबंध बनाए रखने और यात्रा उद्योग में ग्राहकों की बढ़ती जरूरतों को पूरा करने के महत्व पर जोर दिया।

वीएफएस ग्लोबल के संस्थापक और सीईओ जुबिन करकारिया / VFS Global

वीएफएस ग्लोबल के संस्थापक और सीईओ जुबिन करकारिया कंपनी की 'मेड इन इंडिया' सफलता की कहानी बताते हैं। इसके साथ ही वे कंपनी के अमेरिका में विस्तार की योजनाओं की रूपरेखा पर भी रोशनी डालते हैं। मुंबई में स्थापित, दुबई स्थित फर्म वीएफएस दुनिया भर में अपनी विभिन्न सरकारों के लिए वीजा और पासपोर्ट जारी करने से संबंधित प्रशासनिक और गैर-विवेकाधीन कार्यों का प्रबंधन करती है। न्यू इंडिया अब्रॉड के साथ एक साक्षात्कार में करकारिया ने सरकारों के साथ मजबूत संबंध बनाए रखने और यात्रा उद्योग में ग्राहकों की बढ़ती जरूरतों को पूरा करने के महत्व पर जोर दिया। एक बातचीत...

भारत आज विश्व मंच पर अधिक प्रमुखता पा रहा है। 2024 और उसके बाद की भारत यात्रा पर आप क्या कहेंगे?
यह एक तथ्य है कि वीएफएस ग्लोबल की अवधारणा और लॉन्चिंग 2001 में भारत में की गई थी। लेकिन इसके अलावा भारत आज हमारे सबसे बड़े और सबसे महत्वपूर्ण बाजारों में से एक है। मुझे हमेशा देश की अपार क्षमता पर विश्वास रहा है और पिछले कुछ वर्षों में हमने इस क्षमता को साकार होते देखा है। मैं अपने देश के भविष्य को लेकर भी बहुत आशावादी हूं और हमारे माननीय प्रधान मंत्री मोदी के विकसित भारत दृष्टिकोण के प्रति गहराई से प्रतिबद्ध हूं। देश तेजी से आर्थिक और सामाजिक परिवर्तन के दौर से गुजर रहा है जिससे व्यापार, पर्यटन और संस्कृति के नए अवसर पैदा हो रहे हैं। हम एक वैश्विक गंतव्य और बाहर जाने वाले यात्रियों के स्रोत के रूप में भारत की संभावनाओं को लेकर बहुत आशावादी हैं। भारत के पास एक जीवंत और विविध अर्थव्यवस्था, एक बड़ी और युवा आबादी और एक समृद्ध सांस्कृतिक विरासत है। ये कारण भारत को निवेशकों और आगंतुकों दोनों के लिए आकर्षक बनाते हैं।

भारत में यात्रा क्षेत्र में व्यावसायिक अवसरों, विशेष तौर पर निवेश, एमआईसीई पर्यटन, व्यापार और तीर्थ यात्रा को लेकर भी कुछ बताएं?
प्रत्यक्ष विदेशी निवेश भारत में व्यापार और यात्रा के अवसरों के मुख्य आधारों में से एक रहा है। व्यापार और विकास पर संयुक्त राष्ट्र सम्मेलन (UNCTAD) विश्व निवेश रिपोर्ट 2020 के अनुसार भारत 2019 में FDI के शीर्ष 10 प्राप्तकर्ताओं में से एक रहा जिसने 51 अरब डॉलर का प्रवाह आकर्षित किया। यह उससे पिछले वर्ष की तुलना में 20 प्रतिशत की वृद्धि थी। दूसरे, सरकार ने व्यापार करने में आसानी को बेहतर बनाने और अधिक निवेशकों को आकर्षित करने के लिए कई सुधार किए हैं। जैसे मेक इन इंडिया, डिजिटल इंडिया और स्टार्टअप इंडिया कार्यक्रम, जिसने उद्यमिता, नवाचार और रोजगार सृजन के लिए अनुकूल माहौल तैयार किया है। इससे भारतीय अर्थव्यवस्था की प्रतिस्पर्धात्मकता और उत्पादकता में वृद्धि हुई है। भारत में व्यापार के लिहाज से ये तमाम चीजें अनुकूल हैं। 

क्या आप हमें वीएफएस ग्लोबल की 'मेड इन इंडिया' यात्रा के बारे में कुछ बता सकते हैं?
वीएफएस ग्लोबल वास्तव में एक भारतीय सफलता की कहानी है जो वैश्विक हो गई है। मैंने भारत में वीएफएस ग्लोबल की परिकल्पना की और उसे लॉन्च किया जो अपने क्षेत्र में वैश्विक नेता बनने वाले शुरुआती "मेड इन इंडिया" यूनिकॉर्न में से एक है। 2001 में भारत में एक विदेशी सरकार को सेवा देने से लेकर वीएफएस ग्लोबल ने 149 देशों में 3500 से अधिक वीएसी के वैश्विक नेटवर्क के साथ 67 सरकारों को सेवा प्रदान करने के लिए अपना परिचालन बढ़ाया है। भारत में हम 19 शहरों में 570 केंद्रों के साथ 50 से अधिक संप्रभु सरकारों को सेवा प्रदान करते हैं। संगठन ने आर्थिक विकास और भारत में आने वाले पर्यटन के विकास में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। 2008 में विदेश मंत्रालय (भारत) के पहले आउटसोर्स वीजा सेवा भागीदार के रूप में कंपनी वर्तमान में 13 देशों में भारत के लिए पासपोर्ट और वीजा सेवाओं का प्रबंधन करती है और भारतीय प्रवासियों से लगभग 20 मिलियन आवेदनों को संभाला है। हम प्रवासी भारतीय सहायता केंद्र का भी संचालन कर रहे हैं जो 2014 से प्रवासी श्रमिकों के लिए विदेश मंत्रालय द्वारा दिल्ली, लखनऊ, हैदराबाद, चेन्नई, पटना और कोच्चि में 24/7 सूचना प्रसार और शिकायत निवारण केंद्र के रूप में शुरू किया गया है।

वीएफएस ग्लोबल सीमा पार गतिशीलता बढ़ाने के लिए क्या कर रहा है?
जब हमने दो दशक पहले वीएफएस ग्लोबल की संकल्पना की थी तो हमारा प्राथमिक उद्देश्य वास्तविक यात्रियों की सुरक्षित सीमा पार गतिशीलता में सहायता करना और सरकारों को वीजा निर्णय लेने के महत्वपूर्ण कार्य पर ध्यान केंद्रित करने में मदद करना था। 2001 में अपनी स्थापना के बाद से कंपनी ने 2007 से 278 मिलियन से अधिक वीजा आवेदनों और 130 मिलियन से अधिक बायोमेट्रिक नामांकन को कुशलतापूर्वक संसाधित किया है।

वीएफएस ग्लोबल की अमेरिका में विस्तार योजनाएं क्या हैं?
अमेरिका में कंपनी की 2008 में स्थापना हुई। आज हमारे पास संयुक्त राज्य अमेरिका में 10 शहरों में निश्चित उपस्थिति के साथ 113 वीएसी के नेटवर्क के माध्यम से 25 ग्राहक सरकारों को सेवाएं प्रदान करने वाला मजबूत तंत्र है। फाइव आइज अलायंस के सदस्यों में से हम अमेरिका में यूके, कनाडा और न्यूज़ीलैंड की सरकारों को सेवा प्रदान करते हैं। हमारा स्थापित नेटवर्क और अद्वितीय मूल्य प्रस्ताव आउटसोर्सिंग के लाभों को समझते हुए कई संभावित ग्राहक सरकारों के साथ बातचीत को प्रेरित करता है। अमेरिका में विशेष रूप से कैरेबियन और लैटिन अमेरिका के मूल निवासियों की प्रवासी आबादी में लगातार वृद्धि को देखते हुए सरकारों ने पासपोर्ट नवीनीकरण की मांग में लगातार वृद्धि देखी है।

वीएफएस ग्लोबल के नजरिए से देखने पर 2024 के लिए वैश्विक यात्रा पूर्वानुमान क्या है?
हमने महामारी के बाद यात्रा में वापसी देखी है और 2024 में गति मजबूत रहने की उम्मीद है। वैयक्तिकृत सहायता सेवाओं की उम्मीदें तेजी से बढ़ रही हैं। वीजा आपके द्वार जैसी प्रीमियम सेवाओं में भारी बढ़ोतरी इसका उदाहरण है। मैंने स्थिरता और सामाजिक जिम्मेदारी पर भी अधिक जोर देखा है क्योंकि यात्री अपने यात्रा विकल्पों के पर्यावरणीय और सामाजिक प्रभाव के प्रति अधिक जागरूक और सचेत हो जाते हैं।

Comments

ADVERTISEMENT

 

 

ADVERTISEMENT

 

 

E Paper

 

Related