ADVERTISEMENT

इस दक्षिण अमेरिकी देश तक पहुंचा यूपीआई, बटन दबाते ही हो जाएगा पेमेंट

यूपीआई को इससे पहले फ्रांस, श्रीलंका, सिंगापुर और मॉरीशस जैसे अन्य देश अपना चुके हैं। जनवरी 2024 में NPCI ने UPI-PayNow लॉन्च किया था, जिससे भारतीयों के लिए सिंगापुर से रेमिटेंस प्राप्त करना बेहद आसान हो गया है। 

यूपीआई से इस लैटिन अमेरिकी देश में भी लोगों और कंपनियों को रियल टाइम पेमेंट की सुविधा मिलेगी। / X @NPCI_NPCI

भारत का इंस्टेंट पेमेंट सिस्टम यूपीआई यानी यूनिफाइड पेमेंट इंटरफेस अब साउथ अमेरिका तक पहुंच गया है। दक्षिणी अमेरिका के पेरू ने यूपीआई अपनाने का समझौता किया है। पेरू साउथ अमेरिका का पहला देश है, जिसने भारतीय पेमेंट सिस्टम को अपनाया है। 

एनपीसीआई इंटरनेशनल पेमेंट्स लिमिटेड (NIPL) और सेंट्रल रिजर्व बैंक ऑफ पेरू (बीसीआरपी) ने लैटिन अमेरिकी देश में रियल टाइम पेमेंट सिस्टम यूपीआई को सक्षम बनाने के लिए साझेदारी का ऐलान किया है। NIPL नेशनल पेमेंट कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया की पूर्ण स्वामित्व वाली सब्सिडियरी कंपनी है।



एनआईपीएल ने एक बयान में कहा कि यह सहयोग एक मील का पत्थर है, जिसके तहत पेरू विश्व स्तर पर प्रसिद्ध यूनिफाइड पेमेंट इंटरफेस (यूपीआई) तकनीक को अपनाने वाला दक्षिण अमेरिका का पहला देश बन गया है।  यह साझेदारी बीसीआरपी को देश के अंदर रीयल टाइम पेमेंट प्लेटफॉर्म तैयार करने का अधिकार देती है जो लोगों और कंपनियों को तत्काल भुगतान की सुविधा प्रदान करेगी। 

एनपीसीआई इंटरनेशनल के सीईओ रितेश शुक्ला ने कहा कि बीसीआरपी के साथ साझेदारी का उद्देश्य आर्थिक विकास को बढ़ावा देने के लिए पेरू के वित्तीय बुनियादी ढांचे को मजबूत करना है। हम डिजिटल भुगतान, वित्तीय समावेशन, लागत घटाने और पेमेंट सिस्टम में पारदर्शिता को बढ़ावा देने के उद्देश्य को पूरा करने के लिए मिलकर काम करेंगे। 

बीसीआरपी के गवर्नर जूलियो वेलार्डे ने कहा कि भारतीय रिजर्व बैंक का समर्थन इस समझौते की आधारशिला रहा है। बीसीआरपी का मकसद वित्तीय समावेशन, सुरक्षा और दक्षता को बढ़ावा देना और डिजिटल भुगतान में नए सिस्टम का इस्तेमाल करना है।

रिपोर्ट्स के अनुसार, यूपीआई को इससे पहले फ्रांस, श्रीलंका, सिंगापुर और मॉरीशस जैसे अन्य देश अपना चुके हैं। जनवरी 2024 में NPCI ने UPI-PayNow लॉन्च किया था, जिससे भारतीयों के लिए सिंगापुर से रेमिटेंस प्राप्त करना बेहद आसान हो गया है। 

Comments

ADVERTISEMENT

 

 

 

ADVERTISEMENT

 

 

E Paper

 

Related