ADVERTISEMENT

सिख 'शहीदों' के सम्मान में प्रदर्शनी का आयोजन, असेंबली सदस्य का छलका दर्द

कनेक्टिकट अमेरिका का एकमात्र राज्य है जिसने आधिकारिक तौर पर सिख नरसंहार को स्वीकार किया है।

प्रदर्शनी के दौरान गुरतेज सिंह। / Instagram @sikhassemblyofamerica

सिख असेंबली के सदस्य गुरतेज सिंह का कहना है कि 40 साल पहले भारतीय सेना का इस्तेमाल 'सिखों की भावना को कुचलने' के लिए किया गया था। गुरतेज 1984 और उसके बाद के 'शहीदों' के सम्मान में कैपिटल हिल में आयोजित पहली सिख नरसंहार प्रदर्शनी में बोल रहे थे।

वह कहते हैं कि 40 साल पहले (6 जून) भारतीय सेना की ताकत का इस्तेमाल बहुत व्यवस्थित तरीके से सिखों की भावना को कुचलने के लिए किया गया था। 1984 में ऑपरेशन ब्लू स्टार के दौरान मारे गए सिख नेता जरनैल सिंह का जिक्र करते हुए गुरतेज ने कहा कि उनमें कुदाल को कुदाल कहने का साहस था। उन्होंने 40 साल पहले हमारा ध्यान इस ओर दिलाया था कि भारत में सिखों के साथ दोयम दर्जे के नागरिकों जैसा व्यवहार किया जा रहा है। हम भारत का अभिन्न अंग बने रहना चाहते हैं लेकिन केवल समान नागरिक के रूप में। हमने भारत को अंग्रेजों से आजादी दिलाने के लिए 90 से अधिक शीश बलिदान स्वरूप दिये हैं। लेकिन हमारे साथ इस तरह का व्यवहार क्यों किया जा रहा है?

अमेरिका की सिख असेंबली एक अमेरिका-आधारित धार्मिक संगठन है जो एकता को बढ़ावा देने और सिख राष्ट्र के अधिकारों और मूल्यों की रक्षा के लिए प्रतिबद्ध है। संगठन की स्थापना भैयामा पाल सिंह को पकड़ने के लिए 17 मार्च, 2023 को पंजाब में 80,000 अर्धसैनिक बलों की तैनाती के जवाब में की गई थी। इस घटना ने 1980 के दशक की याद दिलाने वाले सवाल खड़े कर दिए। लगभग चार दशक बीत जाने के बावजूद उदासीनता और अन्याय की भावना कायम रही। इसके जवाब में असेंबली ने वाशिंगटन, डी.सी. में कैपिटल हिल में पूर्णकालिक पैरवी प्रयास शुरू किए।

प्रदर्शनी में एक वक्ता ने कहा कि कनेक्टिकट अमेरिका का एकमात्र राज्य है जिसने कानून पारित करके और 1 नवंबर को सिख नरसंहार स्मरण दिवस के रूप में नामित करके सिख नरसंहार को आधिकारिक तौर पर मान्यता दी है।
 

वक्ताओं ने एक उद्धरण पढ़ते हुए कनेक्टिकट महासभा की मान्यता पर भी प्रकाश डाला जिसमें कहा गया था- यह सभी को पता है कि कनेक्टिकट महासभा सिख आजादी की घोषणा की 36 वीं वर्षगांठ की मान्यता में विश्व सिख संसद को अपनी हार्दिक बधाई देती है। हम पंजाब के अमृतसर में सिखों के राजनीतिक केंद्र में सरपत खालसा नामक सामूहिक सिख राष्ट्र सभा द्वारा 29 अप्रैल, 1986 को पारित ऐतिहासिक प्रस्ताव की स्मृति में आपके, आपके दोस्तों और परिवार के साथ हैं।

वक्ताओं में से एक ने बताया कि हालांकि कांग्रेस के गलियारे सिख समुदाय के लिए नए नहीं हैं। सिख जीवन के विभिन्न पहलुओं में अग्रणी रहे हैं। जब पहले एशियाई होने, पहले दक्षिण एशियाई होने और पहले सिख होने की बात आती है तो दिलीप सिंह सोहन 50 के दशक में कांग्रेस के इन गलियारों में जाने वाले पहले कांग्रेसी थे। लेकिन हमें यह पहचानने में इतना समय क्यों लगा कि सत्ता कहां है। कुछ हद तक हम हमें सभी आघात और आघात के परिणाम देने के लिए भारत सरकार को दोषी ठहरा सकते हैं। 

प्रदर्शनी देखने आये कुछ लोगों ने अपनी राय भी जाहिर की। / Instagram @sikhassemblyofamerica

Comments

ADVERTISEMENT

 

 

 

ADVERTISEMENT

 

 

E Paper

 

 

 

Video

 

Related